WhatsApp Group से जुड़े
Join Now
Youtube channel से जुड़े Subscribe
Telegram Channel से जुड़े Join Now

 

केंद्रीय पूल में चावल का स्टॉक अधिक-गेहूं का बहुत कम मार्च – अप्रैल 2024

Spread the love

केंद्रीय पूल में चावल का स्टॉक अधिक-गेहूं का बहुत कम : – नमस्कार किसान भाइयों आज इस पोस्ट में जानेंगे केंद्र सरकार के पास चावल और गेहूं के स्टाक में कितनी बढ़ोतरी और कमी दर्ज की गयी। केंद्र सरकार द्वारा 80 करोड़ लोगों को 5 किलो गेहूं देने के कारण गेहूं के स्टॉक में भारी गिरावट आई और मौसम परिवर्तन के कारण गेहूं की उपज घटने की आशंकाएं जताई जा रही है।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

गेहूं स्टॉक 2024, गेहूं भाव today 2024, paddy rate today 2024, rice rate today 2024,

आज का नरमा कपास भाव 👉 कपास भाव 8350 पहुंचे जानिए नरमा कपास खल बिनौला के 26 मार्च 2024 के भाव

सिद्धू मूसेवाला के माता-पिता ने सरकार पर लगाया बड़ा आरोप जानिए परेशानी का कारण

आधिकारिक आकड़ों के अनुसार केंद्रीय पूल में 1 मार्च की तुलना में 15 मार्च को खा‌द्यान्न का कुल स्टॉक 359.78 लाख टन से 9.58 लाख टन बढ़कर 369.36 लाख टन पर पहुंच गया जिसमें मुख्यतः चावल का योगदान रहा।

समीक्षाधीन अवधि के दौरान चावल का स्टॉक तो 262.86 लाख टन से 23.85 लाख टन बढ़कर 286.71 लाख टन पर पहुंचा मगर गेहूं का स्टॉक 96.92 लाख टन से 14.27 लाख टन घटकर 82.65 लाख टन रह गया।

दूसरी ओर इसी अवधि में धान का स्टॉक 473.19 लाख टन से 43.56 लाख टन घटकर 429.63 लाख टन पर अटक गया। मगर मोटे अनाजों का स्टॉक 3.90 लाख टन से सुधरकर 3.99 लाख टन हो गया।

दरअसल खरीफ कालीन धान की कस्टम मिलिंग जारी रहने से खाद्य निगम को राइस मिलर्स से चावल की अच्छी मात्रा प्राप्त हो रही है जिससे केंद्रीय पूल में इसका स्टॉक बढ़ता जा रहा है।

यह भी जाने 👉

हरियाणा में जो भी वित्त मंत्री रहा दोबारा जीतकर नहीं पहुंचा विधानसभा

राजस्थान में 5 दिन बंद रहेगी शराब की दुकानें जानिए वजह और कब बंद रहेगी।

लाल आलू की जबरदस्त मांग / जानिए कैसे करें लाखों में कमाई और खेती

इसकी प्रक्रिया अभी जारी रहेगी। कस्टम मिलिंग के कारण धान के स्टॉक में कमी आने लगी है क्योंकि इसकी सरकारी खरीद अंतिम चरण में पहुंच गयी है।

अगले महीने यानी अप्रैल 2024 से रबी कालीन धान की खरीद का सीजन औपचारिक तौर पर आरम्भ हो जायेगा।

जिससे चावल के स्टॉक में इजाफा होगा। लेकिन गेहूं की खरीद अभी अत्यंत सुस्त गति से हो रही है। जबकि खपत में बढ़ोत्तरी का सिलसिला जारी है।

सरकार ने उत्तर प्रदेश में 1 मार्च से तथा राजस्थान में 10 मार्च से गेहूं खरीदने का प्लान बनाया था मगर खराब मौसम के कारण यह संभव नहीं हो पाया। मध्य प्रदेश में भी 15 मार्च तक गेहूं की सरकारी खरीद आरंभ नहीं हो सकी थी।

उपलब्ध आकड़ों के अनुसार 1 मार्च 2023 को केंद्रीय पर्ल में 210.54 लाख टन चावल एवं 116.70 लाख टन गेहूं के साथ कुल 327.24 लाख टन खाद्यान्न का स्टॉक मौजूद था जबकि धान का स्टॉक 371.8 लाख टन एवं मोटे अनाजों का स्टॉक 9.61 लाख टन रहा था।

Don`t copy text!