WhatsApp Group से जुड़े
Join Now
Youtube channel से जुड़े Subscribe
Telegram Channel से जुड़े Join Now

 

Desi kapas top 6 variety 2024 / देशी कपास की टॉप 6 उन्नत किस्में

Spread the love

Desi kapas top 6 variety 2024 :-

कपास की शीर्ष 6 संकर किस्में . चीन के बाद भारत दुनिया का सबसे बड़ा कपास उत्पादक देश है. कपास भारत की सबसे महत्वपूर्ण फसलों में से एक है. भारत हजारों सालों से वस्त्रों के लिए कपास का उत्पादन करता आ रहा है ।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

kapas ki top 5 variety , cotton 5 top variety 2024, cotton best seeds 2024

आज के समय में भारत में करोड़ों लोग कपास की खेती करते हैं, करोड़ों किसान कपास से अपनी दैनिक आजीविका पूरी करते हैं । भारत के हर क्षेत्र में कपास की खेती की जाती है. लेकिन कई राज्य ऐसे हैं जिनमें कपास की खेती सबसे ज्यादा होती है.

जैसे गुजरात, महाराष्ट्र, पंजाब, राजस्थान, तेलंगाना और कर्नाटक में कपास की बेहतर पैदावार होती है ।भारत में कपास की खेती मई से जुलाई तक की जाती है और स्थानीय परिस्थितियों के आधार पर अक्टूबर से जनवरी तक इसकी कटाई की जाती है ।

यह भी जाने 👉 mcx cotton में तूफानी तेजी जानिए आज 27 मार्च नरमा कपास खल बिनौला भाव

आज हम कपास की शीर्ष 5 संकर किस्मों ((Kapas Ki Top 5 Hybrid Variety)) के बारे में बताने जा रहे हैं तो इस लेख के अंत तक बने रहें ।

कपास की शीर्ष 6 संकर किस्में (कपास की किस्मों की सूची )

(1) केआर-64 कपास बीज

कपास-सरसों की फसल चक्रण के लिए सबसे उपयुक्त

जल्दी, समय पर और देर से बुवाई के लिए उपयुक्त

फैलाने वाला पौधा

गोलक का वजन 2.5 ग्राम तक होता है और प्रति गूदा 3-4 गुच्छे होते हैं

परिपक्वता अवधि 150-155 दिन

कम अवधि की किस्म

उचित कृषि प्रबंधन पद्धतियों के साथ बंपर उपज

रोगों के प्रति सहनशील

(2) वेदा प्लैटिनम BG II

कपास की उन्नत किस्मों में वेद सीड्स की भी अलग पहचान है। वेद सीड्स के धर्मा गोल्ड, अभया गोल्ड और प्लैटिनम के अलावा वेद सीड्स की कपास की किस्में भी बाजार में धूम मचा रही हैं।

अगर इन तीनों कपास किस्मों की बात करें तो अभया गोल्ड देर से पकने वाली किस्म है और आप बीज रहित और बिना अंकुरित दोनों तरह की फसलों के लिए धर्मा गोल्ड के बीज चुन सकते हैं। लेकिन प्लैटिनम किस्म आपको हल्की मिट्टी या मध्यम मिट्टी में भी अच्छा उत्पादन देगी।

प्लेटिनम कपास की एक उन्नत किस्म है जो कम समय में और जल्दी पक जाती है। इसमें रोग प्रतिरोधक क्षमता भी अधिक होती है, इसलिए इस पर कई तरह की बीमारियां हमला नहीं करेंगी।

पौधे बहुत मजबूत होते हैं, इसलिए पौधे पर अधिक बॉलवर्म उगते हैं। इन पौधों से कपास भी आसानी से लिया जा सकता है। यह सभी तरह की मिट्टी के लिए उपयुक्त कपास की किस्म है।

(3) आदित्य मोक्ष कपास

भारत में आदित्य मोक्ष कपास की किस्म भारी मिट्टी में बोई जाती है। क्योंकि आदित्य मोक्ष कपास की किस्म को बहुत ज़्यादा पानी की ज़रूरत होती है।

इसका गोला बहुत बड़ा होता है। इसलिए यह बहुत ज़्यादा उत्पादन भी देता है। आदित्य मोक्ष कपास बोने का सही समय मई से जून तक है। आदित्य मोक्ष कपास के पौधे औसतन 40,000 प्रति एकड़ की दर से लगाए जाते हैं।

यह भी जाने 👉

राजस्थान के किसानों पर बड़ा संकट, 15 दिन में चुकाने हैं 400 करोड़ रुपए

सिद्धू मूसेवाला के माता-पिता ने सरकार पर लगाया बड़ा आरोप जानिए परेशानी का कारण

हरियाणा में जो भी वित्त मंत्री रहा दोबारा जीतकर नहीं पहुंचा विधानसभा

(4) कावेरी मनी मेकर : –

यह किस्म कावेरी सीड्स कंपनी द्वारा विकसित की गई है। भारत के कई इलाकों में कावेरी मनी मेकर कपास की किस्म भारी मिट्टी में बोई जाती है।

यह किस्म 150 से 160 दिन की होती है। ये किस्म एक एकड़ में 20 से 25 क्विंटल उत्पादन देती है। इस कपास के बीज 50,000 से 60,000 बीज प्रति एकड़ की दर से बोए जाते हैं।

(5) अंकुर-651 कपास

अंकुर-651 कपास किस्म का पौधा 97 सेमी ऊंचा होता है। अंकुर-651 कपास 170 दिनों में पक जाता है।

यह किस्म एक एकड़ में 20 से 25 क्विंटल पैदावार देती है। अंकुर-651 कपास के बीज एक एकड़ में 45,000 से 55,000 बीज बोए जाते हैं।

(6) व्हाइट गोल्ड कपास

व्हाइटगोल्ड की यह संकर किस्म लीफ कर्ल वायरस रोग के प्रति सहनशील है। इसमें गहरे हरे रंग की चौड़ी लोब वाली पत्तियां होती हैं। पौधों की औसत ऊंचाई लगभग 125 सेमी होती है।

यह 180 दिनों में पक जाता है। कपास की बीज उपज 6.5 क्विंटल प्रति एकड़ है। कपास के बीज एक एकड़ में 45,000 से 55,000 बीज बोए जाते हैं।

Don`t copy text!