WhatsApp Group से जुड़े
Join Now
Youtube channel से जुड़े Subscribe
Telegram Channel से जुड़े Join Now

 

ग्वार भाव तेजी मंदी रिपोर्ट 2023 / ग्वार भाव भविष्य 2023

Spread the love

ग्वार भाव तेजी मंदी रिपोर्ट 2023 / Guar boom Recession report 2023 : – ग्वार भाव भविष्य 2023 । ग्वार भाव में पिछले 15 दिनों से लगातार तेजी जारी है और ग्वार भाव में आगे भी तेजी आने की संभावना है। ग्वार भाव में तेजी आने की वजह क्या रही और निर्यात मांग में कितना उछाल आया पूरी जानकारी आपको इस पोस्ट में उपलब्ध करवायेंगें। रोजाना अपनी मंडी के ताजा भाव अपडेट वायदा बाजार भाव फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट और मौसम पूर्वानुमान की जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट पर रोजाना विजीट करें और गुगल पर सर्च जरूर करें 👉 Mandi xpert

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

ग्वार भाव तेजी मंदी रिपोर्ट 2023, ग्वार भाव भविष्य 2023, Guar boom Recession report 2023,

मंडी भाव 👉 आज का मंडी रेट 29 जुलाई/ नरमा ग्वार सरसों गेहूं मसूर चना भाव

ग्वार भाव तेजी मंदी रिपोर्ट 2023
गत वर्ष ग्वार का उत्पादन कम होने से मंडियों एवं गम मिलों में में हाजिर माल की भारी कमी बनी हुई है। दूसरी ओर नई फसल आने में अभी चार महीने का समय बाकी है। इस बार बिजाई भी कम हुई है, वहीं गम का निर्यात लगातार यूएसए सहित अन्य विकसित देशों को चल रहा है, इन परिस्थितियों में ग्वार में जल्दी 500/600 रुपए प्रति क्विंटल की और तेजी आ सकती है तथा दूरगामी परिणाम और तेजी वाला लग रहा है।

ग्वार का उत्पादन गत वर्ष कम होने से मंडियों में आवक पूरी तरह समाप्त हो गई है, केवल छोटे-बड़े स्टॉकिस्टों के माल इधर से उधर बिक रहे हैं। गत वर्ष ग्वार का उत्पादन 40 प्रतिशत घटकर 48/50 लाख मैट्रिक टन रह गया था, जिस कारण गम मिलों में मिलिंग के अनुरूप माल नहीं है तथा वर्तमान में 84 प्रतिशत माल प्रोसेस्ड हो चुका है। उत्पादक मंडियों में स्टाक बहुत ही कम बचा है, जबकि नई फसल आने में 4 महीने का समय बाकी है। उधर डिब्बे में गम एवं ग्वार के हाजिर की अपेक्षा 70 के प्रतिशत व्यापार अधिक हुआ है, जिसके डिलीवरी के लिए माल नहीं मिल रहा है ।

मुख्य कारण राजस्थान और हरियाणा में ग्वार उत्पादक जिलों में ज्यादातर एरिया में या तो मानसून कमजोर है और कहीं भारी बारिश के कारण ग्वार की फसल खराब हो चुकी है। और अब बिजाई का समय भी बहुत लेट हो गया है जिसके कारण उत्पादन घटने की संभावना है राजस्थान मे बिजाई का रकबा 6% घंटा है वहीं गुजरात में 10% बढ़कर 75000 हैक्टेयर में बुवाई हुई है। पिछले 15 दिनों में ग्वार सीड में 13.50 % का उछाल आया है वहीं ग्वार गम में 21% का उछाल आया है।

यही कारण है कि डिलीवरी के अभाव में लगातार अगस्त-सितंबर के सौदे बढ़ते जा रहे हैं, जिस कारण हनुमानगढ़, जोधपुर, बीकानेर, अहमदाबाद, राजकोट के अलावा हरियाणा के भिवानी, दादरी के साथ-साथ राजस्थान के दौसा, डीडवाना, नागौर, चूरू लाइन में ग्वार का स्टाक बहुत ही कम बचा है। हालांकि भारी तेजी के बाद वायदा बाजार आज मंदे लिए बंद हुआ, लेकिन अगस्त की डिलीवरी डिब्बे में बहुत ज्यादा लगने से बाजार फिर तेज लग रहा है ।

गौरतलब है कि इस बार बीज भी काफी ऊंचे बिक रहे हैं, वहीं गम मिलों के निर्यात सौदे अभी पेंडिंग में पड़े हुए हैं। यूएसए, यूएई में गम का स्टॉक काफी कम रह जाने से लगातार निर्यातकों की लिवाली बनी हुई है, जबकि गम मिले हैंड टू माउथ चल रही हैं। यही कारण है कि ग्वार के भाव गत 3 दिनों में 150/200 रुपए बढ़कर राजस्थान एवं गुजरात की मंडियों में 5950/6050 रुपए प्रति क्विंटल हो गए हैं। जोधपुर एवं अहमदाबाद लाइन में गम के भाव भी 1270012800 रुपए के आस-पास चल रहे हैं। नई फसल आने में अभी लंबा समय बाकी होने तथा निर्यातकों के पेंडिंग में होने से गम की खपत आगे और बढ़ने वाली हैं। फलतः अगले एक महीने के अंतराल ही 500/600 रुपए प्रति क्विंटल की और तेजी लग रही है। हाजिर में ग्वार उत्पादक मंडियों में 7000 रुपए भी बनना कोई बड़ी बात नहीं है।

डिस्क्लेमर : – व्यापार अपने विवेक से करें।

Don`t copy text!