WhatsApp Group से जुड़े
Join Now
Youtube channel से जुड़े Subscribe
Telegram Channel से जुड़े Join Now

 

गुजरात में कॉटन नरम उत्तर भारत में स्थिर जानिए तेजी मंदी रिपोर्ट

Spread the love

गुजरात में कॉटन नरम उत्तर भारत में स्थिर जानिए तेजी मंदी रिपोर्ट : – नमस्कार किसान भाइयों गुजरात में कॉटन में नरमी देखी गई लेकिन उत्तर भारत में कॉटन भाव स्थिर रहे। कुल आवक 134.31 लाख गांठो की आवक हुई। खैरथल लाइन में कॉटन के भाव 53800 से 54000 रुपए बोले गए। घरेलू बाजार में सूती धागे की मांग कमजोर है जिसके कारण कॉटन के भाव में नरमी जारी है। रोजाना अपनी मंडी भाव, फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट और मौसम पूर्वानुमान की जानकारी पाने के लिए गुगल पर सर्च जरूर करें 👉 Mandi Xpert

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

आज का मौसम पूर्वानुमान 👉 मौसम का बदला मिजाज जानिए कहां होगी बारिश और छाएगा कोहरा

नई दिल्ली। स्पिनिंग मिलों की मांग कमजोर होने के कारण मंगलवार को दोपहर बाद गुजरात में कॉटन के दाम कमजोर हो गए, जबकि उत्तर भारत के राज्यों में स्थिर बने रहे। गुजरात के अहमदाबाद में 29 शंकर-6 किस्म की कॉटन के भाव 200 रुपये घटकर दाम 55,000 से 55,200 रुपये प्रति कैंडी, एक कैंडी-356 किलो रह गए। पंजाब में नई रुई के हाजिर डिलीवरी के भाव 5450 से 5525 रुपये प्रति मन बोले गए। हरियाणा में नई रुई के भाव हाजिर डिलीवरी के भाव 5425 से 5550 रुपये प्रति मन बोले गए।

ऊपरी राजस्थान में नई रुई के भाव हाजिर डिलीवरी के दाम 5000 से 5650 रुपये प्रति मन बोले गए। खैरथल लाइन में कॉटन के दाम 53,800 से 54,000 रुपये कैंडी, एक कैंडी-356 किलो बोले गए। देशभर की मंडियों में कपास की आवक 1,30,500 गांठ, एक गांठ-170 किलो की हुई। एमसीएक्स के साथ ही एनसीडीएक्स पर आज शाम को कॉटन की कीमतों में शाम के सत्र में गिरावट का रुख रहा।

आईसीई के इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग में कॉटन के दाम शाम के सत्र में नरम हुए। व्यापारियों के अनुसार स्पिनिंग मिलों की सीमित मांग से उत्तर भारत के राज्यों में कॉटन की कीमतें स्थिर हो गई, लेकिन गुजरात में दाम नरम हुए। घरेलू बाजार में सूती धागे में मांग सामान्य की तुलना में कमजोर है, जिस कारण मिलें केवल जरुरत के हिसाब से ही खरीद कर रही हैं। खपत का सीजन होने के कारण आगामी दिनों में यार्न की स्थानीय मांग बढ़ने की उम्मीद है जबकि मिलों के पास कॉटन का बकाया स्टॉक कम है। अतः कॉटन की कीमतों में तेजी, सूती धागे की स्थानीय मांग बढ़ने पर ही आयेगी।


कॉटन कारपोरेशन ऑफ इंडिया, सीसीआई के अनुसार पहली अक्टूबर 2023 से शुरू हुए चालू फसल सीजन 2023-24 में 15 जनवरी तक देशभर की मंडियों में 134.31 लाख गांठ, एक गांठ 170 किलो कपास की आवक हो चुकी है। पहली अक्टूबर 2023 से शुरू हुए चालू फसल सीजन 2023-24 में दिसंबर अंत तक कॉटन कारपोरेशन आफ इंडिया, सीसीआई 19.28 लाख गांठ, एक गांठ 170 किलो कॉटन की खरीद कर चुकी है।

अभी तक कुल खरीद में 80 फीसदी दक्षिण भारत के राज्यों से हुई है। कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया, सीएआई ने फसल सीजन 2023-24 के दौरान अपने कपास उत्पादन अनुमान को 294.10 लाख के पूर्व स्तर पर बरकरार रखा है। मालूम हो कि फसल सीजन 2022-23 के दौरान देशभर में 318.90 लाख गांठ कॉटन का उत्पादन हुआ था।

Don`t copy text!