WhatsApp Group से जुड़े
Join Now
Youtube channel से जुड़े Subscribe
Telegram Channel से जुड़े Join Now

 

तेल मिलों की खरीद कमजोर होने से सरसों के दाम घटे, दैनिक आवकों में कमी

Spread the love

Mustard prices decreased due to weak procurement from oil mills, daily arrivals decreased

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

तेल मिलों की खरीद कमजोर होने से सरसों के दाम घटे, दैनिक आवकों में कमी

नई दिल्ली। मकर संक्रांति के त्योहार के कारण तेल मिलों की खरीद कमजोर होने से घरेलू बाजार में शनिवार को सरसों की कीमतें घट गई। जयपुर में कंडीशन की सरसों के भाव 50 रुपये कमजोर होकर दाम 5,675 रुपये प्रति क्विंटल रह गए। इस दौरान सरसों की दैनिक आवक घटकर 2.65 लाख बोरियों की ही हुई। मलेशियाई में सप्ताहांत में जहां पाम तेल की कीमतों में बढ़ोतरी आई थी, वहीं इस दौरान शिकागो में भी सोया तेल में तेजी में तेजी आई थी।

उत्पादन अनुमान में कमी आने की आशंका से मलेशिया में पाम तेल की कीमतों में 4.67 फीसदी की साप्ताहिक बढ़ोतरी हुई। व्यापारियों के अनुसार विश्व बाजार में खाद्वय तेलों की कीमतों में हल्का सुधार तो और भी बन सकता है, लेकिन एकतरफा बड़ी तेजी के आसार कम है। शनिवार को घरेलू बाजार में सरसों तेल की कीमतों में भी मंदा आया, जबकि इस दौरान सरसों खल के दाम भी घट गए।,
त्योहार के कारण उत्पादक मंडियों में सरसों की दैनिक आवकों में कमी दर्ज की गई। हालांकि प्रमुख उत्पादक राज्यों में सरसों का बकाया स्टॉक पिछले साल की तुलना में ज्यादा है। इसलिए इसकी दैनिक आवक अभी बनी रहेगी।

यह भी जाने 👉 पाला पड़ने पर फसलों का बचाव कैसे करें / जानिए स्प्रे और बचाव के उपाय

यह भी जाने 👉 नीम से जैविक कीटनाशक बनाने की विधि/ जानिए पूरी प्रक्रिया

हालांकि खपत का सीजन होने के कारण सरसों तेल में भी मांग बराबर बनी रहेगी, जबकि इसकी कीमतों में तेजी, मंदी काफी हद तक आयातित खाद्वय तेलों के दाम पर ही निर्भर करेगी। व्यापारियों के अनुसार चालू सीजन में सरसों की बुआई में बढ़ोतरी हुई है, साथ ही मौसम भी फसल के अनुकूल है, इसलिए चालू रबी में सरसों का उत्पादन बढ़ने का अनुमान है।

कृषि मंत्रालय के अनुसार चालू रबी सीजन में 12 जनवरी तक सरसों की बुवाई बढ़कर 99.58 लाख हेक्टेयर में हो चुकी है, जोकि पिछले साल की समान अवधि के 97.44 लाख हेक्टेयर से ज्यादा है। जयपुर में सरसों तेल कच्ची घानी और एक्सपेलर की कीमतों में शनिवार को गिरावट दर्ज की गई। कच्ची घानी सरसों तेल के भाव 7 रुपये कमजोर होकर दाम 1,021 रुपये प्रति 10 किलो रह गए, जबकि सरसों एक्सपेलर तेल के दाम भी 7 रुपये घटकर 1,011 रुपये प्रति 10 किलो रह गए। जयपुर में शनिवार को सरसों खल की कीमतें 20 रुपये कमजोर होकर दाम 2,955 रुपये प्रति क्विंटल रह गए।

देशभर की मंडियों में सरसों की दैनिक आवक घटकर 2.65 लाख बोरियों की हुई, जबकि इसके पिछले कारोबारी दिवस में आवक 3.35 लाख बोरियों की हुई थी। कुल आवकों में से प्रमुख उत्पादक राज्य राजस्थान की मंडियों में 1.25 लाख बोरी, जबकि मध्य प्रदेश की मंडियों में 25 हजार बोरी, उत्तर प्रदेश की मंडियों में 35 हजार बोरी, पंजाब एवं हरियाणा की मंडियों में 15 हजार बोरी तथा गुजरात में 15 हजार बोरी, एवं अन्य राज्यों की मंडियों में 50 हजार बोरियों की आवक हुई।

disclaimer : – किसान भाइयों ये बाजार की रिपोर्ट है जो विशेषज्ञों द्वारा उपलब्ध कराई गई है। किसी भी लाभ हानि के लिए हम जिम्मेवार नहीं होंगे। व्यापार अपने विवेक से करें।